Telegram Channel Join Now
Facebook Channel Join Now

UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana 2023

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में मत्स्य उत्पादन की वृद्धि हेतु मछुआरो के 17 समुदायो को उन्नतशील बनाने का निरंतर प्रयत्न किया जा रहा है l जिसके तहत सरकार ने UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana 2023 लांच किया है l इसके साथ ही मछुआरो के लिए निषादराज नाव सब्सिडी योजना भी संचालित किया गया है, इन दोनों योजनाओ के अंतर्गत सरकार मछुआरो को मछली सीड्स, नाव क्रय, मछली पकड़ने की जाल इत्यादि उपकरण पर 40% की सब्सिडी दे रहा है l इस लेख में हम आपको UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana और निषादराज नाव सब्सिडी दोनों योजनाओं की पूरी जानकारी के बारे में बताएंगे।

UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana

यूपी सरकार ने UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana और निषादराज नाव सब्सिडी योजना के संचालन हेतु 4 करोड़ रुपये का बजट वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए प्रस्तावित किया गया है l यह योजना पूर्ण रूप से राज्य सरकार द्वारा वित्त पोषित है l यह योजना उन लोगो को लाभ पहुचाता है जो ग्राम पंचायत के तालाबो को पट्टे पर लिए है l UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana और निषादराज नाव योजना का उद्देश्य राज्य में मछली उत्पादन की वृद्धि करना और ग्राम सभा के तालाबो को पट्टे पर लेने वाले व्यक्ति की आय को दोगुना करना है l जिसमे अधिकांश रूप से मछुआरा समुदाय के लोग ही सामिल है, जो गरीब और राज्य की आबादी का 3-4% हिस्सा है l 

इसे भी पढ़े : –

UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana 2023 (उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना)

प्रदेश में मछुआरा समुदाय के विकास और उन्नति हेतु भाजपा ने विधानसभा चुनाव 2022 की चुनावी घोषणा पत्र में जिक्र किया है l उत्तर प्रदेश में दुबारा भाजपा की सरकार आने पर मा० मुख्यमंत्री योगी जी ने राज्य के लगभग 17 मछुआरा समुदायो को मत्स्य उत्पादन में वृद्धि करने और उन्नतशील उपकरणों के क्रय पर सब्सिडी देने के लिए UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana लांच किया गया है l इस योजना के द्वारा ग्राम सभा में गरीब और पिछड़े समुदाय के पट्टा धारक को लाभ पहुचाने और मत्स्य उत्पादन में वृद्धि कर उनकी आय को दोगुना करना है l 

UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana के तहत उत्तर प्रदेश सरकार प्रथम वर्ष में ग्राम सभा में पट्टा धारी तालाबो पर 100 मछली बीज बैंक स्थापित करेगी l ग्राम सभा की तालाबो को मनरेगा की मदद से सुदृण कर बेहतर बनाया जायेगा और उसके लिए पट्टा जारी किया जायेगा l इसी तरह से अगले 5 वर्षो में इस योजना की मदद से लगभग 500 मछली बीज बैंक स्थापित किये जायेंगे l 

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना की सब्सिडी धनराशि

राज्य में निवास करने वाले ऐसे मछुआरा परिवार जो ग्राम सभा की तालाबो को पट्टे पर लेकर मत्स्य उत्पादन कर रहे है, उन्हें राज्य सरकार द्वारा प्रथम वर्ष के कुल लागत का 40% धनराशि सब्सिडी के रूप में दी जाती है l UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana के तहत सरकार 4 लाख रुपये की इनपुट राशि पर 1.6 लाख सब्सिडी प्रदान कर रही है, जो कुल यूनिट का 40% है l इस योजना से पट्टा धारक को प्रथम वर्ष में 500 हेक्टेयर और पांचवे वर्ष में 2500 हेक्टेयर के तालाब पर लाभ प्राप्त होगा l 

सभी ग्राम सभा में मछली बीज भंडार की स्थापना होने से कई मछलियों की प्रजातियों में अच्छी गुणवत्ता वाली बीज उपलब्ध होगा जिससे मत्स्य उत्पादन में क्रांति आयेगी और उत्पादन क्षमता बढेगा l UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana 2023, प्रधानमंत्री मत्स्य योजना से बिल्कुल भिन्न है जो निजी भूमि पर तालाबो को कवर करती है किन्तु मुख्यमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना ग्राम सभा भूमि की तालाबो को कवर करती है l 

UP Nishadraj Boat Subsidy Yojana 2023 [उत्तर प्रदेश निषादराज नाव सब्सिडी योजना (NBSY)]

इस योजना का जिक्र भाजपा ने विधानसभा चुनाव 2022 के चुनावी घोषणा पत्र में किया था l जिसके क्रियान्वयन हेतु भाजपा ने अब आवंटन बजट किया है l इस योजना के संचालन हेतु उत्तर प्रदेश सरकार ने वित्तीय वर्ष 2022-23 में 2 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है l निषादराज नाव सब्सिडी योजना का लाभ मुख्य रूप से राज्य के मछुआ (मछुआरा) समुदाय के अंतर्गत आने वाली 17 उप जातिया ले सकती है जिनका विवरण निम्नलिखित है : – 

  • केवट
  • मल्लाह
  • निषाद
  • बाँध
  • धीमर
  • कश्यप
  • कहार
  • कुम्हार
  • प्रजापति
  • धीवर
  • भर
  • राजभर
  • बाथम
  • गोदिया
  • तुरहा
  • माझी
  • मछुआ

उपरोक्त जातियों के अतिरिक्त राज्य के अनुसूचित जाति वर्ग के गरीब लोगों को भी निषादराज नाव सब्सिडी योजना का लाभ दिया जा सकता है l

इसे भी देखे : – 

निषादराज बोट सब्सिडी योजना की सब्सिडी राशि

इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश सरकार चिन्हित किये गए जातियों को मत्स्य उत्पादन हेतु विभिन्न उपकरण जैसे :- नाव, मछली पकड़ने की जाल, मछली की उन्नतशील बीज इत्यादि क्रय करने पर सब्सिडी प्रदान करती है l यदि मछुआरा एक नाव 50,000 रुपये और एक नेट जिसकी कीमत रु० 17,000 (कुल लागत रु० 67,000) को खरीदता है तो उसे सरकार द्वारा कुल लागत का रु० 28,000 (जो प्रति यूनिट का 40% है) की सब्सिडी प्रदान की जाती है l 

निषादराज नाव सब्सिडी योजना के लाभार्थी

यह योजना प्रतिवर्ष ग्राम सभा के लगभग 15,00 पट्टा धारक मछुआरा को कवर करेगी l इस प्रकार से अगले पांच वर्ष में कुल 7,500 पट्टा धारक लोगो को लाभ मिलेगा l इस योजना के माध्यम से अवैध रूप से मछली पकड़ने वाले लोगो पर रोक लगेगा जिससे राज्य सरकार का राजस्व नुकसान नहीं होगा l दूसरी तरफ मछुआरा समुदाय को मत्स्य उत्पादन में अधिक से अधिक संसाधनों की सुरक्षा हेतु आगे आने में प्रोत्साहन मिलेगी l 

यह भी पढ़े : –               Uttar Pradesh Career Guidance 

UP Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana के विषय में अधिक जानकारी हेतु नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर देख सकते है :-  https://timesofindia.indiatimes.com/city/lucknow/uttar-pradesh-govt-launches-2-schemes-for-fishermen-community/articleshow/91845044.cms

Leave a comment